https://pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js

Should keep faith on Karma not on luck.

This story follows.

Singh Pratap Singh founder of of Alwar state was a great scholar and witness king.

He respected the old people and helped the poor.

King Pratap Singh was karmayogi and believed in Karma.

On hearing his praise. Some Mahatma come here of the king he was Mahatma elder hi bol Rajan I heard your big name.

Your subjects please with devotion I want to give you a wonderful thing. I have received this after doing years of penance in the the Himalaya cavernous.

King its Paras stone Max iron the gold thanks countries Harish wave went up bole he will convert from food into iron gold.

Vah is the greater visit a forest then the the breadwinners. That will get this touch stone will now turn into gold show all iron off estate Alwar will be reached state suddenly King Pratap Singh through Paras stone out of window in into reservation in trial court was taken abeck.

भाग्य पर नहीं कर्म पर विश्वास रखना चाहिए एक कहानी इस प्रकार है अलवर राज्य के संस्थापक राजा प्रताप सिंह बड़े विद्वान और साक्षी राजा थे वह गुनी जनों का सम्मान करते और निर्धनों की सहायता करते थे राजा प्रताप सिंह कर्म योगी थे और कर्म में विश्वास करते थे उनकी प्रशंसा सुनकर कुछ महात्मा राजा के यहां आए थे महात्मा बड़े तपस्वी थे वह बोले राजन मैंने तुम्हारा बड़ा नाम सुना है तुम्हारी प्रजापति से प्रसन्न होकर मैं तुम्हें एक अद्भुत वस्तु देना चाहता हूं हिमालय के कंधों में वर्षो तपस्या करने के बाद मैंने इसे प्राप्त किया है राजा यह पारस पत्थर है लोहा को सोना बना देगा धन्यवाद दरबारियों में हर्ष की लहर दौड़ गई बोले हरे अन्नदाता से बड़ा पुण्यवान कौन है जिसे है पारस पत्थर मिलेगा अब तो राज्य का सारा लोहा सोना में बदल जाएगा अलवर सबसे धनी राज्य हो जाएगा अचानक राजा प्रताप सिंह ने पारस पत्थर को खिड़की से बाहर विशाल जलाशय में फेंक दिया सारा दरबार आश्चर्यचकित रह गया राजा भोले मत मन में भाग्य में नहीं कर्म में विश्वास करता हूं अगर राज्य भी आगे बढ़ो से हाथ पर हाथ धरे बैठा रहेगा तो पता तो और भी आलसी हो जाएगी।